add image
add image

World Population Day: जनसंख्या के हिसाब से दुनिया के छोटे देश

news-details

दुनिया की बढ़ती आबादी और उससे होने वाले परेशानियों के प्रति जागरुक करने के लिए हर साल 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस मनाया जाता है. 11 जुलाई, 1987 को जब दुनिया की जनसंख्या का आंकड़ा 5 अरब हुआ था तो लोगों के बीच जनसंख्या संबंधी मुद्दों पर जागरूकता फैलाने के लिए विश्व जनसंख्या दिवस की नींव रखी गई. लगातार बढ़ती आबादी अब धीरे – धीरे खतरा बनती जा रही है. चीन, भारत, अमेरिका जैसे देशो की बढ़ती आबादी इसी खतरे की पर्याय है. आज हम आपको जनसंख्या के हिसाब से कुछ ऐसे देशों से परिचय कराने जा रहे हैं, जिनकी आबादी आपको हैरान कर देगी.

 

44 हेक्टेयर के क्षेत्र में फैला वेटिकन सिटी यूरोप का सबसे छोटा देश है. इस देश की जनसंख्या मात्र 840 है.

 

विश्व का दूसरा सबसे छोटा देश तुवालु है. तुवालु देश की जनसंख्या 11,097है.

 

प्रशांत महासागर में स्थित नौरु आईलैण्ड विश्व का तिसरा छोटा देश है. इस देश की जनसंख्या 13 हजार के आसपास है.

 

पलाउ गणराज्य विश्व का चौथा छोटा देश है. यह देश भी प्रशांत महासागर स्थित द्वीपीय देश है. इस देश की जनसंख्या 21,000 के करीब है.

 

33,000 के करीब जनसंख्या वाला सैन मैरिनो विश्व का पांचवा छोटा देश है. इस देश का कुल क्षेत्रफल 6.1 वर्ग किलोमीटर है.

 

मोनैको विश्व का छठा छोटा देश है. इस देश की कुल जनसंख्या 38 से 39 हजार के करीब है.

 

पश्चिम यूरोप का लिक्टनस्टीन विश्व का सातवां छोटा देश है. इस देश की सीमाएं स्विट्जरलैंड और ऑस्ट्रिया से मिलती है. 160 वर्ग किलोमीटर में फैले इस देश की जनसंख्या 37 से 38 हजार के करीब है.

 

अतलांतिक महासागर स्थित मार्शल आइलैंड विश्व का आठवां छोटा देश है. इस देश की जनसंख्या 53,000 के करीब है.

 

हनीमून डेस्टिनेशन के लिए मशहूर मालदीव विश्व का नौवां छोटा देश है. मालदीव की जनसंख्या 4 लाख के करीब है.

 

माल्टा विश्व का दसवां छोटा देश है. इस देश की जनसंख्या 4,60,000 के करीब है.

  • Tags
  • #

You can share this post!

Loading...