Surya Samachar
add image

चाहरदीवारी छोड़ नए आयाम कर रही महिलाएं

news-details

हरियाणा जहां महिलाओं को घूंघट करने और घर की चाहरदीवारी तक रहने के लिए मजबूर किया जाता था। लेकिन आज बदलते हरियाणा के साथ महिलाएं भी बदल रही है। आज की महिलाएं घर की बागडोर से लेकर देश की कमान तक संभाल रही है। घर के चुल्हे-चौके से लेकर खेल के मैदान तक, हर क्षेत्र में बेहतरीन प्रर्दशन कर रही है। 
 
पिछले पंचायती चुनावों में 44 फीसदी महिलाएं जीती
 
प्रदेश सरकार ने पंचायती चुनाव में महिलाओं की भागीदारी को 33 प्रतिशत से बढ़ाकर 50 प्रतिशत कर दिया है। जिसके परिणामस्वरूप पंचायती चुनाव में महिलाओं की भागीदारी निश्चय ही बढ़ी है। पिछली बार के पंचायती चुनाव में लगभग 44 फीसदी महिलाओं ने जीत हासिल की है। जो कि अब तक का सबसे बड़ा आकड़ा माना जा रहा है।
 
100 सर्वश्रेष्ठ पंच-सरपंच महिला प्रतिनिधियों का सम्मान से बढ़ा हौंसला
 
हरियाणा में पहली बार पंचायती राज में बतौर जनप्रतिनिधि श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाली 100 महिला पंच-सरपंचों, जिला परिषद और ब्लॉक समिति सदस्यों को स्कूटी देने की शुरुआत की गई है। इससे महिला प्रतिनिधियों में बेहतर काम करने की होड़ लगी है। 
 
पढ़ी-लिखी पंचायतों से हो रहा ग्रामवासियों का विकास
 
प्रदेश में मनोहर लाल सरकार ने पढ़ी-लिखी पंचायत करने का ऐलान किया। उनके इस फैसले का काफी विरोध किया गया। लेकिन अब ग्रामीणवासियों का खुद यहीं कहना है कि पढ़ी-लिखी पंचायत गांव के विकास में हर मुमकिन प्रयत्न कर रही है। पढ़ी-लिखी पंचायत होने से ग्रामीणवासी अब पंचायती सिस्टम यकीन करने लगे है।
 
 
राजनीति को नारी शक्ति ने दिए नए आयाम

  • Tags
  • #

You can share this post!

Loading...