add image
add image

WPI: फलों-सब्जियों के भाव में नरमी, सितम्बर माह में थोक महंगाई महज 0.33 फीसदी

news-details

फलों-सब्जियों आदि के भाव में नरमी के कारण से सितंबर में थोक महंगाई में भारी कमी दर्ज की गयी है. WPI (थोक मूल्य सूचकांक) आधारित महंगाई महज 0.33 प्रतिशत रही, जबकि अगस्त महीने में यह 1.08 प्रतिशत थी. वहीं सितंबर 2018 में थोक महंगाई 5.22 प्रतिशत थी. थोक महंगाई का यह तीन साल से भी ज्यादा का निचला स्तर है.
 
जून 2016 के बाद महंगाई पहली बार इतने नीचे स्तर पर आयी है. सोमवार को सरकार द्वारा पेश किये गए आंकड़ों के अनुसार, खाद्य वस्तुओं के सूचकांक में अगस्त महीने की तुलना में 0.4 प्रतिशत की कमी दर्ज की गयी है. फलों-सब्जियों, पोर्क के भाव में 3 प्रतिशत, ज्वार, बाजरा और अरहर के दाम में 2 प्रतिशत और मटन, चाय, मछली के भाव में 1 प्रतिशत की कमी आई है.
 
हालांकि मसालों के भाव में 4 प्रतिशत, पान के पत्ते और मटर के भाव में 3 प्रतिशत, अंडे और रागी के भाव में 2 प्रतिशत तथा मूंग, चिकन, मक्का, राजमा, गेहूं, जौ, उड़द, बीफ आदि के भाव में 1 प्रतिशत का इज़ाफ़ा हुआ है.
 
गौरतलब है कि अगस्त महीने में थोक मूल्य सूचकांक आधारित महंगाई लगभग 25 महीने के निम्न स्तर 1.08 प्रतिशत पर रही थी. जुलाई महीने के मुकाबले इसमें कोई परिवर्तन नहीं हुआ है. वहीं अगस्त 2018 में थोक महंगाई दर 4.62 प्रतिशत थी. इसके पहले खुदरा महंगाई में तेज़ी का आंकड़ा दर्ज किया गया था.

  • Tags
  • #

You can share this post!

Loading...