Surya Samachar
add image
add image

एथलीटों के दवाब देने के बाद भी साई ने खड़े किए हाथ

news-details

एनआईएस पटियाला ने एथलीटों की ट्रेनिंग की मांग पर और सख्ती जताई है। ओलंपिक की तैयारियों के लिए कैंप में शामिल एथलीटों की ओर से साई पर कैंपस में ट्रेनिंग की छूट दिए जाने का दबाव बढ़ता जा रहा है। लेकिन साई ने इस पर न सिर्फ हाथ खड़े कर दिए हैं बल्कि बुधवार को कैंप में शामिल एथलीटों पर और ज्यादा सख्ती कर दी गई। एथलेटिक्स के हाई परफॉरमेंस डायरेक्टर (एचपीडी) लॉकडाउन के बाद से ही एनआईएस अधिकारियों से एथलीटों को ट्रेनिंग में छूट देने की मांग कर रहे हैं। उनका साथ सभी एथलीट और कोच दे रहे हैं। लेकिन एनआईएस ने भी साफ कर दिया है डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट लगे होने की वजह से ऐसा संभव नहीं है।
 
बता दें कि एनआईएस में स्थिति उस वक्त और बिगड़ गई जब अधिकारियों ने कैंप में मौजूद खिलाड़ियों के कमरों से बाहर निकलने पर पूरी तरह पाबंदी लगा दी। एनआईएस में निगरानी के लिए टीमें बनाई गई हैं। ये टीमें समय-समय पर चेकिंग करती हैं कि कोई खिलाड़ी या यहां रहने वाला सड़कों पर तो नहीं निकला है। कमरों से निकलने की स्थिति में खिलाड़ी और कोच के पकड़े जाने पर उसके खिलाफ कार्रवाई तक की बात कही गई है।
 
वहीं एचपीडी हरमन वॉकर ने अधिकारियों को कहा है कि एथलीट लंबे समय से कैंप में हैं। वे बाहर भी नहीं गए हैं। ऐसे में वे ग्रुप में दूरी बनाकर ग्राउंड पर टुकड़ो में ट्रेनिंग कर सकते हैं। कोच और एचपीडी यहां तक कह रहे हैं कि अगर एथलीट लंबे समय तक कमरों में कैद रहे तो उन पर मानसिक दबाव बढ़ेगा। वहीं साई के एक अधिकारी का कहना है कि लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन नहीं किया जा सकता है। किसी भी अनहोनी की स्थिति में जिम्मेदारी उनकी होगी।
 
कैंप में शामिल खिलाड़ियों को अधिक से अधिक प्रोटीन देने के लिए मांसाहार के रूप में चिकन दिया जाता है। सूत्र बताते हैं कि बुधवार को कैंपरों को चिकन नहीं परोसे जाने का प्रस्ताव रखा गया। इस पर एथलीटों ने काफी हंगामा किया है। उनका कहना है कि प्रोटीन के रूप में इस वक्त उन्हें चिकन ही मिल रहा है। ऐसे में उसका बंद किया जाना गलत होगा।

  • Tags
  • #

You can share this post!

Loading...