add image
add image

मसूद अजहर और जैश-ए-मौहम्मद का पाप, जानिए एक-एक बातें

news-details

आखिरकार मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित कर दिया गया. लंबे समय से भारत इस कोशिश में था कि आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) के प्रमुख मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित किया जाए जिसमें शुरुआती कई नाकामियों के बाद भारत को उस समय कामयाबी मिली जब संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) ने बुधवार को वैश्विक आतंकवादी घोषित कर दिया. आइए जानते हैं कौन हैं मसूद अजहर और कौन-कौन से आतंकी हमलों में रहा है शामिल ?

1999 IC-814 हाईजैक:24 दिसंबर को काठमांडू से 176 यात्रियों को लेकर जा रही एक इंडियन एयरलाइंस की फ्लाइट को पाकिस्तान के आतंकवादियों ने अपहरण कर लिया था. ये आतंकी मसूद अजहर के रिश्तेदार थे. आतंकियों ने अपहरण किए गए विमान को तालिबान प्रशासित अफगानिस्तान के कंधार ले गई थी. यात्रियों को छोड़ने के लिए आतंकियों ने मसूद अजहर की रिहाई की मांग की. बाद में तत्कालीन वाजपेयी सरकार को आतंकी मसूद अजहर को छोड़ना पड़ा.

2001 जम्मू और कश्मीर विधानसभा पर हमला:पाकिस्तान पहुंचने के बाद मसूद अजहर ने आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का गठन किया. इसके बाद 1 अक्टूबर 2001 को जैश-ए-मोहम्मद के एक आतंकवादी ने जम्मू-कश्मीर विधानसभा में एक IED वाहन से हमला किया. इस विस्फोट से 38 लोग मारे गए.

2001 संसद हमला:जैश के पांच आतंकियों ने भारत के संसद पर साल 2001 में बड़ा हमला किया. जैश समूह के पांच आतंकवादियों ने 13 दिसंबर 2001 को गृह मंत्रालय के लेबल वाली एक कार में बैठकर संसद भवन में दाखिल हुए और अंधाधुंन फायरिंग शुरू कर दिया. जिस वक्त जैश के आतंकियों ने हमला किया उस वक्त संसद के अंदर 100 से ज्यादा सांसद मौजूद थे. आतंकियों को सुरक्षाकर्मियों ने मार गिराया लेकिन इस हमले में एक सिक्योरिटी गार्ड समेत सात लोगों की मौत हुई थी.

2014-15 के दौरान कश्मीर में हमला:संसद हमले में पकड़े गए जैश के आतंकी अफजल गुरु को फांसी दिए जाने के बाद यह आतंकी संगठन काफी समय तक सुस्त रहा लेकिन फिर साल 2014-15 में लंबे समय तक सुस्त रहने के बाद जेआईएम फिर से कश्मीर में सक्रिय हो गया. इस आतंकी संगटन ने कश्मीर में 'अफजल गुरु शहीद दस्ता' का गठन किया. इस दस्ते ने कठुआ, सांबा, हंदवाड़ा और पुलवामा में पुलिस स्टेशनों और सेना के शिविरों पर कई हमलों को अंजाम दिया, जिससे एक दर्जन से अधिक सुरक्षाकर्मियों की मौत हो गई.

2016 पठानकोट हमला:'अफजल गुरु शहीद दस्ता' के चार आतंकी भारी हथियारों से लैस होकर 2 जनवरी 2016 को पठानकोट में भारतीय वायु सेना के बेस कैंप के उच्च सुरक्षा परिसर में प्रवेश किया और हमला कर दिया. इस हमले में छह सुरक्षाकर्मियों की मौत हो गई.

2016 नगरोटा हमला:29 नवंबर की सुबह लगभग 5.30 बजे भारतीय पुलिस की वर्दी में तीन जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादियों ने जम्मू शहर के पास नगरोटा शहर में सेना की 166 फील्ड रेजिमेंट की एक इकाई पर हमला किया. इस हमले में एक अधिकारी सहित सेना के चार सैनिक शहीद हो गए.

2016 का उरी हमला:18 सितंबर को चार JeM आतंकवादियों ने नियंत्रण रेखा के पास उरी में एक भारतीय सेना मुख्यालय पर हमला कर दिया. इस हमले में उन्होंने तीन मिनट में 17 ग्रेनेड दागे थे. इस हमले के दौरान सेना के 17 जवान शहीद हो गए थे.

2019 पुलवामा हमला:14 फरवरी को दोपहर 3.30 बजे पुलवामा के लेथपोरा में एक जैश-ए-मोहम्मद का आत्मघाती हमलावर ने IED से लदे वाहन से सीआरपीएफ के 2,500 से अधिक परिवहन करने वाले 78 वाहनों के काफिले पर हमला हुआ. इस हमले में 40 से अधिक सीआरपीएफ के जवान शहीद हो थे.

  • Tags
  • #

You can share this post!

Loading...