add image
add image

कांग्रेस ने विवादित बयान देने पर अपने विधायक को भेजा नोटिस

news-details

कांग्रेस ने अपने वरिष्ठ नेता एवं कर्नाटक में विधायक आर रोशन बेग को पार्टी नेताओं के खिलाफ विवादित बयान देने के मामले में मंगलवार को नोटिस भेजा है।

पार्टी ने पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया, कांग्रेस महासचिव के. सी. वेणुगोपाल और राज्य इकाई के अध्यक्ष दिनेश गुंडू राव के खिलाफ बेग की टिप्पणी पर कड़ा रुख दिखाया है।

नोटिस में कहा गया है कि बेग के बयानों को ‘‘पार्टी विरोधी गतिविधि’’ के रूप में काफी गंभीरता से लिया जा रहा है। बेग से एक सप्ताह के भीतर यह बताने के लिये कहा गया है कि उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई क्यों न की जाए।

राज्य कांग्रेस के महासचिव वी वाई घोरपड़े द्वारा हस्ताक्षर किये गए नोटिस में कहा गया है, ‘‘जवाब नहीं देने पर आपके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।’’

गौरतलब है कि बेग ने एक्जिट पोल में अपनी पार्टी के खराब प्रदर्शन के लिये कांग्रेस नेताओं को जिम्मेदार ठहराया था। उन्होंने कहा था कि पार्टी के ‘‘खराब प्रदर्शन’’ के लिये सिद्धारमैया का ‘‘घमंड’’ और राव की ‘‘अपरिपक्वता’’ जिम्मेदार है। उन्होंने राज्य में पार्टी मामलों के प्रभारी वेणुगोपाल को भी ‘‘मसखरा’’ कहा था।

बेग ने सिद्धारमैया पर मुख्यमंत्री रहते हुए लिंगायत समुदाय को अलग धर्म का दर्जा देने की कोशिश कर हिंदू समाज को ‘‘बांटने’’ का भी आरोप लगाया था।

उन्होंने यह भी कहा कि (लोकसभा चुनावों में भाजपा की अगुवाई वाली एनडीए की संभावित जीत के मद्देनजर) मुस्लिमों को ‘‘समझौता’’ कर लेना चाहिए और ‘‘मवेशियों’’ जैसी जिंदगी नहीं जीना चाहिए।

इस बीच, बेग के बेटे रुमान बेग ने कहा, ‘‘कांग्रेस ने अल्पसंख्यकों में डर का माहौल पैदा कर दिया है। उन्होंने एक ऐसा विमर्श तैयार किया है कि यदि अल्पसंख्यकों ने भाजपा को वोट देने का फैसला किया तो उन्हें खुद को कसूरवार मानना चाहिए। लेकिन असल में कांग्रेस नेतृत्व अल्पसंख्यक वोट बैंक को सुरक्षा कुशन के तौर पर इस्तेमाल करता है।’’

बाद में एक ट्वीट कर बेग ने कहा, ‘‘मुझे कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस कमेटी की तरफ से भेजा गया एक नोटिस मिला है। मैं इसे पढ़ने की जहमत भी नहीं उठाने वाला, क्योंकि इसे उन्हीं लोगों के आदेश से भेजा गया है जिनकी अक्षमताओं को मैंने उजागर किया था।’’

भाषा

  • Tags
  • #

You can share this post!

Loading...