add image
add image

दूसरों के धर्म को नीचा समझने वाले 'अधार्मिक': नीतीश कुमार

news-details

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के ' इफ्तार ' पार्टी को लेकर दिये गए बयान पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को उन पर परोक्ष रूप से निशाना साधा। नीतीश ने कहा कि धार्मिक होने का अर्थ केवल अपने धर्म के रीति - रिवाजों को मानना नहीं होता है बल्कि दूसरे धर्म का सम्मान करना भी होता है और जो लोग ऐसा नहीं मानते हैं वे ' अधार्मिक ' हैं।

कुमार ने संवाददाताओं से कहा , " मैं धर्म को मानने वालों के सम्मान में यहां ऐतिहासिक गांधी मैदान में साल 2006से ईद का कार्यक्रम आयोजित कर रहा हूं। धर्म सिर्फ अपने रीति - रिवाजों का अनुसरण करना नहीं बल्कि दूसरे धर्म को मानने वालों का सम्मान करना भी है। "

मुख्यमंत्री ने कहा , " लेकिन कुछ लोग हैं , जो ऐसा नहीं सोचते हैं। उन्हें लगता है कि खुद के धर्म को मानना काफी है और दूसरे धर्म के रीति - रीवाजों और उनके लोगों को नीचा दिखाना ठीक है। मुझे लगता है कि ऐसे लोग ' अधार्मिक ' हैं। "

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने ‘ इफ्तार ’ पार्टी में शामिल होने पर मंगलवार को राजग के अपने सहयोगियों पर तंज कसा था। इसके बाद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने गिरिराज की आलोचना की और उनसे ऐसे बयानों से बचने के लिए कहा था।

नीतीश ने कहा , " मैं देख रहा हूं कि आप लोग बार - बार एक व्यक्ति का नाम ले रहे हैं। मैं इन सभी लोगों को लंबे समय से जानता हूं। कुछ लोग हैं जो सिर्फ चीजों को इसलिए कहना पसंद करते हैं ताकि वह मीडिया का ध्यान अपनी तरफ आकर्षित कर सकें। मैं उनके किसी भी कथन पर प्रतिक्रिया नहीं देना चाहूंगा। "

भाषा

  • Tags
  • #

You can share this post!

Loading...