#लोकसभा चुनाव 2019
चुनावी फैक्ट्स
×

लोक सभा चुनाव 2019

add image
add image
add image

जानिए क्या है आरती का पूजा में महत्व

news-details

अगर कोई व्यक्ति मंत्र नहीं जानता, पूजा की विधि नहीं जानता लेकिन आरती कर लेता है, तो भगवान उसकी पूजा को पूर्ण रूप से स्वीकार कर लेते हैं. आरती का धार्मिक महत्व होने के साथ ही वैज्ञानिक महत्व भी है.रोज प्रात:काल सुर-ताल के साथ आरती करना सेहत के लिए भी लाभदायक है. गायन से शरीर का सिस्टम सक्रीय हो जाता है. इससे असीम ऊर्जा मिलती है. रक्त संचार संतुलित होता है.

आरती का महत्व-

- आरती के महत्व की चर्चा सर्वप्रथम "स्कन्द पुराण" में की गई है. 

- आरती हिन्दू धर्म की पूजा परंपरा का एक अत्यंत महत्वपूर्ण कार्य है. 

- किसी भी पूजा पाठ, यज्ञ, अनुष्ठान के अंत में देवी-देवताओं की आरती की जाती है. 

- आरती की प्रक्रिया में एक थाल में ज्योति और कुछ विशेष वस्तुएं रखकर भगवान के सामने घुमाते हैं. 

- थाल में अलग-अलग वस्तुओं को रखने का अलग-अलग महत्व होता है. 

- लेकिन सबसे ज्यादा महत्व होता है आरती के साथ गाई जाने वाली स्तुति का. मान्यता है कि जितने भाव से आरती गाई जाती है, पूजा उतनी ही ज्यादा प्रभावशाली होती है.

आरती करने के नियम-

- बिना पूजा उपासना, मंत्र जाप, प्रार्थना या भजन के सिर्फ आरती नहीं की जा सकती है. 

- हमेशा किसी पूजा या प्रार्थना की समाप्ति पर ही आरती करना श्रेष्ठ होता है. 

- आरती की थाल में कपूर या घी के दीपक दोनों से ही ज्योति प्रज्ज्वलित की जा सकती है. 

- अगर दीपक से आरती करें, तो ये पंचमुखी होना चाहिए. 

- इसके साथ पूजा के फूल और कुमकुम भी जरूर रखें. 

- आरती की थाल को इस प्रकार घुमाएं कि ॐ की आकृति बन सके. 

- आरती को भगवान के चरणों में चार बार, नाभि में दो बार, मुख पर एक बार और सम्पूर्ण शरीर पर सात बार घुमाना चाहिए.

मनोकामना पूर्ति के लिए आरती-

- विष्णु जी की आरती में पीले फूल रखें. 

- देव और हनुमान जी की आरती में लाल फूल रखें.

- शिव जी की आरती में फूल के साथ बेल पत्र भी रखें. 

- गणेश जी की आरती में दूर्वा जरूर रखें. 

- घर में की जाने वाली नियमित आरती में पीले फूल रखना ही उत्तम होगा.

  • Tags
  • #

You can share this post!

Loading...