add image
add image

भिखारी के पास मिले इतने पैसे गिनने में लग गए घंटो

news-details

पिछले सप्ताह शुक्रवार की रात को मुम्बई में रेलवे क्रासिंग पार करते समय एक बुजुर्ग व्यक्ति की मौत हो गई. 83 साल का बिड़दीचंद आजाद का पेशा भीख़ मांगना था. उसकी मौत के बाद पुलिस उसकी झोपड़ी में सूचना देने के लिए पहुंची और जब उसमें कोई नहीं मिला. तो पुलिस ने उस झोपड़ी की तलाशी शुरू कर दी. तलाशी करते समय पुलिस हैरान हो गई क्योंकि बिड़दीचंद आजाद के घर में बोरी में भरकर सिक्के और कुछ एफडी के सर्टिफिकेट भी रखे हुए थे. 
 
जीआरपी पुलिस के अनुसार,  सिक्के इतने ज्यादा थे कि उन्हें गिनने में घंटों का समय लग गया. आज़ाद के घर से लगभग 1 लाख 50 हजार रुपये थे. इसके अलावा बैंक एफडी के कई सर्टिफिकेट भी थे जिनकी कुल कीमत 8 लाख 77 हजार रुपये है. 
 
राजस्थान के रहने वाले बिड़दीचंद मुम्बई के गोवंडी इलाके में रेलवे क्रॉसिंग के पास ही रहते थे और रेलवे स्टेशन पर भीख मांगकर अपना पेट भरते थे. किसी को इस बात का अंदाजा भी नहीं होगा कि उनके पास इतने पैसे थे. 
 
पुलिस को बिड़दीचंद आजाद के घर से उनका पैन कार्ड, आधार कार्ड और सीनियर सिटीजन कार्ड भी मिला है. घर से मिले दस्तावेजों के आधार पर जीआरपी पुलिस ने राजस्थान पुलिस से बिड़दीचंद आजाद के परिवार वालों की तलाश करने को कहा है.

  • Tags
  • #

You can share this post!

Loading...