add image
add image

इमरान के मंत्री ने की कैलंडर देखने में साइंस की बात, मौलवी जी चिढ़ गए

news-details

पाकिस्तान में इमरान खान सरकार ने इस्लामिक कैलंडर में प्रमुख पर्व एवं पवित्र महीनों का निर्धारण अमावस देखकर किए जाने के कारण कई बार संदेह की स्थिति बनने के चलते इसका निर्धारण विज्ञान आधारित चंद्र कैलंडर के जरिए करने का सुझाव देकर रुढ़िवादी मौलवियों का गुस्सा मोल ले लिया है। दरअसल सालाना रमजान के महीने में उपवास की शुरुआत किस तारीख से हो इसको लेकर विवाद रहता है, जिसको देखते हुए इमरान खान सरकार के एक मंत्री ने यह कदम उठाने की पेशकश की है।

मुस्लिम कैलंडर के नौवें और सबसे पवित्र महीने रमजान, ईद की छुट्टी और शोक वाला माह मोहर्रम मनाने का निर्णय अमावस देखकर ही तय किया जाता है। पाकिस्तान में मौलवियों के नेतृत्व वाली 'चांद देखने वाली समिति' इसकी घोषणा करती है कि कब से रोजे शुरू होंगे लेकिन दशकों से इसकी सत्यता को लेकर विवाद भी होता रहा है। पाकिस्तान के विज्ञान एवं तकनीक मंत्री फवाद चौधरी ने पांच मई को एक विडियो ट्वीट किया।

इसमें उन्होंने कहा है,'रमजान, ईद और मुहर्रम के अवसर पर प्रत्येक साल चांद देखने को लेकर विवाद होता है। चांद देखने और गणना करने के लिए समिति पुरानी तकनीक...दूरबीन..का सहारा लेती है। जब आधुनिक तकनीक उपलब्ध है और इसका सहारा लेकर हम अंतिम और वास्तविक तारीख की गणना कर सकते हैं तो फिर सवाल यह है कि हम आधुनिक तकनीक का सहारा क्यों नहीं ले रहे हैं?'

उन्होंने कहा कि उनका मंत्रालय वैज्ञानिकों, मौसम वैज्ञानिकों और पाकिस्तान की अंतरिक्ष एजेंसी के वैज्ञानिकों को लेकर एक समिति का गठन कर सकती है जो अगले पांच साल की '100 फीसदी सही' तारीख की गणना कर देगी। हालांकि चौधरी ने कहा कि प्रधानमंत्री का मंत्रिमंडल कैलंडर को खारिज भी कर सकता है। वहीं एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा कि देश को कैसे चलाया जाए, इसे मौलवियों के भरोसे नहीं छोड़ा जा सकता है।

उन्होंने कहा, 'आगे का सफर युवाओं को ले जाना है, मुल्लाओं को नहीं। केवल प्रौद्योगिकी देश को आगे ले जा सकती है।' हालांकि, चांद देखने वाली समिति के प्रमुख मुफ्ती मुनीब-उर-रहमान ने चौधरी को अपने दायरे में रहने की हिदायत दी है। उन्होंने कराची में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, 'मैंने प्रधानमंत्री इमरान खान से अपील की है कि संबंधित मंत्री ही धार्मिक मामलों के बारे में बात करें। ' चौधरी के बयान के बाद इस मुद्दे पर चर्चा तेज हो गई है

  • Tags
  • #

You can share this post!

Loading...