add image
add image

अगर आप तनाव में हैं तो, जरूर आजमाएं ये खास आसन

news-details

कभी काम की चिंता तो कभी पर्सनल लाइफ की खींचतान, कहीं परीक्षा का दबाव तो कहीं रोजगार की तलाश। आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में तनाव यानी टेंशन का होना आम हो गया है। तनाव के वजह से कंधों में अकड़न, पीठ में खिंचाव, सिर और गर्दन में दर्द होने लगता है। योग इन तकलीफों में काफी राहत देता है। योग और आसनों के नियमित अभ्यास से आप तनाव को काफी हद तक कम कर सकते हैं। हाई या लो ब्लड प्रेशर यानी अनियंत्रित रक्तचाप वाले लोगों को चिकित्सकीय सलाह के बाद ही योग करना चाहिए। हम आपको बता रहे हैं योग की उन मुद्राओं के बारे में जिनके अभ्यास से आपको तनाव में राहत मिलेगी: 
 
त्रिकोणासन
त्रिकोणासन को करने से तनाव में कमी आती है। यह आसन पीठ दर्द से भी मुक्ति दिलाने में बेहद लाभदायक है। करीब दो हफ्तों तक इस आसन को करने से आपके पीठ का दर्द खत्म हो जाएगा। इस आसन को करने से वजन भी कम होता है। इस आसन को करने के लिए सबसे पहले अपने पैरों को चौड़ा करके सीधे खड़े हो जाएं।
इसके बाद अपनी रीढ़ की हड्डी को मोड़ लें और अपने हाथ को नीचे रख लें। इसके बाद अपना दाहिना हाथ ऊपर कर लें। अब अपने दाहिने हाथ की उंगली को देखें। कुछ देर बाद आप साधरण स्थिति में आ जाएं। अब फिर से निचे झुकते हुए बाएं हाथ के साथ इस आसन को दोहराएं।
 
हलासन
सबसे पहले जमीन पर दरी बिछा लें। इसके बाद जमीन पर बिछी दरी पर सीधा लेट जाएं। अब अपने दोनों हाथो को जमीन पर रखें और पैरों को आपस में जोड़ लें। अब अपने दोनों पैरो को धीरे से उठाकर अपने नितम्ब को भी हल्का सा ऊपर उठा लें। अब अपने हाथो की मदद से अपने दोनों पैरो को सिर के पीछे जमीन की तरफ ले जाएं। अब अपने पैर और घुटनों को सीधे रखें और अपने हाथों को नितंम्ब के बगल पर ही रखें। इस स्थिति में थोड़ी देर रहने के बाद वापस आ जाएं। ध्यान रहे कि अगर किसी व्यक्ति को रक्तचाप एवं हृदय की समस्या है तो उसे यह आसान नहीं करना चाहिए।
 
कोणासन
इस आसन को करने के लिए सबसे पहले सीधे खड़े हो जाएं। इसके बाद पैरों में कूल्हे के चौड़ाई जितनी दूरी बना लें। अब गहरी सांस लेते हुए अपने बाएं हाथ को इस तरह ऊपर उठाये की आपकी उंगलियां छत की दिशा में रहें। अब सांस छोड़ते हुए रीढ़ की हड्डी को झुकाते हुए अपनी दाहिनी ओर झुके। अब अपने श्रोणि को बाईं तरफ लेकर जाएं और थोड़ा झुके। इस दौरान अपने बायें हाथ को ऊपर की ओर तना हुआ रखे। इस दौरान कोहनियों को सीधा रखें। अब आप सांस भरते हुए अपने शरीर को सीधा करें और फिर सांस को छोड़ते हुए अपने बायें हाथ को नीचे लाए।

  • Tags
  • #

You can share this post!

Loading...