add image
add image

क्या है INX मीडिया केस जिसकी वजह से चिदंबरम के ऊपर लटकी है गिरफ्तारी की तलवार

news-details

INX मीडिया केस के मामले में कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम और उनके बेटे कार्तिक चिदंबरम, दिल्ली हाई कोर्ट द्वारा अग्रिम जमानत की अर्जी खारिच करने के बाद उनके ऊपर गिरफ़्तारी के आदेश जारी हो चुके है। ED और CBI ने मंगलवार को उनके दिल्ली स्थित आवास पर गिरफ्तार करने के लिए गयी थी, लेकिन वो अपने दिल्ली स्थित आवास से फरार थे। ED और CBI का कहना है की बुधवार तक उन्हें गिरफ्तार कर सुप्रीम कोर्ट में हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ सुनवाई के औचित्य को आधारहीन बनाया जा सके।

क्या है INX मीडिया केस ?

पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम और उसके बेटे कार्तिक चिदंबरम पर INX  मीडिया केस को लेकर आरोप है कि, उन्होंने INX मीडिया को फॉरेन इन्वेस्टमेंट प्रोमोशन बोर्ड (एफआईपीबी) से गैरकानूनी तौर पर मंजूरी दिलाने के लिए रिश्वत लिया है। 305 करोड़ रुपये के इस हाई प्रोफाइल घोटाले में पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम और उनके बेटे कार्तिक चिदंबरम का भी नाम शामिल है। ये मामला 2007 का है, जब पी. चिदंबरम यूपीए-2 सरकार में वित्त मंत्री थे। पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम को INX मीडिया को 2007 में एफआईपीबी से मंजूरी दिलाने के लिए कथित रूप से रिश्वत लेने के आरोप में 28 फरवरी 2018 को गिरफ्तार किया गया था। ईडी ने 2007 में विदेश से 305 करोड़ की राशि प्राप्त करने के लिए INX मीडिया को एफआईपीबी मंजूरी देने में कथित तौर पर अनियमितता का आरोप लगाया है। ईडी की अब तक की जांच से पता चला है कि एफआईपीबी की मंजूरी के लिए INX मीडिया के पीटर और इंद्राणी मुखर्जी ने पी. चिदंबरम से मुलाकात की थी, ताकि उनके आवेदन में किसी तरह की देरी ना हो।

यहाँ पर आपको बता दे कि, अब तक चिदंबरम की ओर से सुप्रीम कोर्ट में एक स्पेशल लीव पीटिशन दायर की गई है लेकिन कोर्ट में आज की कार्यवाही खत्म होने की वजह से उस पर सुनवाई मुश्किल है। जॉइंट रजिस्टार ने चिदंबरम की ओर से याचिका देने वाले वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल से कहा कि CJI अभी ज्यूडिशियल काम में लगे हैं और उसके बाद उन्हें यह याचिका दी जाएगी। इसके बाद CJI याचिका पर आज सुनवाई करने या न करने का फैसला करेंगे।

  • Tags
  • #

You can share this post!

Loading...