add image
add image

18 साल पहले आतंकी हमले से थर्रा उठा था अमेरिका

news-details

आज ही के दिन 11 सितंबर 2001 में अमेरिका पर हुए आतंकी हमले से पूरा विश्व सहम गया था, हमलावरों ने  अमेरिका की शान वर्ल्ड ट्रेड सेंटर को अपना निशाना बनाया था ये दुनिया का सबसे बड़ा हमला था. जिसने पूरे विश्व को हिलाकर रख दिया था. इसमें करीब 90 देशों के लोग मारे गये थे. जिसमें भारत भी शामिल था.

वर्ल्ड ट्रेड को न्यूयार्क में अमेरिका की शान समझा जाता रहा है. आतंकियों ने इस इमारत को दो विमान से मिसाइलों की तरह इस्तेमाल किया था. उस समय 19 आंतकियों ने चार विमानों का इस्तेमाल कर चार जगहों को निशाना बनाया था.

अमेरिका के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर व न्यूयार्क शहर के ट्विन टावर्स के साथ अपहरणकर्ताओं ने दो विमानों को इमारतों के साथ टकरा दिया था. उस इमारत में मौजूदा लोग और विमान में सवार लोग मारे गये थे. मारे गये लोगों की संख्या करीब 2,977 थी, न्यूयार्क शहर व पोर्ट अथॉरिटी के 343 अग्निशामक और 60 पुलिस अधिकारी थे. कड़ी मेहनत के साथ बनी इमारत, दो घंटे में ही भरभराकर ढह गई. पास की भी इमारतें नष्ट हो गई और अन्य क्षतिग्रस्त हो गई थी.

तीसरे विमान को अपहरणकर्ता ने बस वाशिंगटन डी.सी. के बाहर, आर्लिगटन, वर्जीनिया में पेंटागन इमारत से टकरा दिया. इस हमले में करीब 184 लोग मारे गये थे.

चौथा विमान हमला जंगल में गिराया था. आतंकियों के वहशीपन से और इस खौफनाक मंजर से पूरा विश्व कांप उठा था. आतंकियों ने बड़ी जगह को ही निशाना बनाया था.

इस हमले से अमेरिका में सात दिनों के अंदर ही 1.4 लाख करोड़ का शेयर डूब गया थे और 10 अरब की प्रॉपर्टी व इंफ्रास्ट्रक्चर बर्बाद हुआ था. पूरी दुनिया पर दबदबा रखने वाला अमेरिका इस हमले से सहम गया था.

वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हुए आतंकी हमले की दसवीं बरसी पर अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने शपथ ली थी कि अमेरिका आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में डगमगाएगा नहीं, उसका डटकर मुकाबला करेंगे.

ओबामा ने खूंखार आतंकवाद ओसामा बिन लादेन को ढूंढकर उसका खात्मा कर दिया.  आज भी खौफनाक मंजर को याद कर लोग अंदर से सहम जाते हैं।    

  • Tags
  • #

You can share this post!

Loading...