Surya Samachar
add image

एक किसान जिसने रासायनिक खेती छोड़ प्राकृतिक खेती से कमाए लाखों रूपये...

news-details

कांगड़ा: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई ऐसी योजनाएं चला रखी हैं जिसने अगर देखा जाए तो किसान अपनी जिंदगी बना सकता है। वैसे भी भारत किसानों का देश है। यहां के 80 फीसदी लोग खेतीबाड़ी करके अपना जीवन चलाते हैं। ऐसी ही एक कहानी सामने आयी है हिमाचल के जिला कांगड़ा के नगरोटा बंगवा से जहां एक किसान ने कुछ हजार लगा कर लाखों की कमाई की है। 
 
संसार चंद का परिवार नहीं चाहता था कि खेती करें

सब्जियों की खेती के लिए प्रसिद्ध इस क्षेत्र में बिना केमिकल के सब्जियों की खेती करना संसार चंद के लिए एक चुनौती भरा था। संसार चंद के लिए यह चुनौती इसलिए भी बड़ी थी क्योंकि इसमें उन्हें परिवार का साथ नहीं मिल रहा था। इसके बावजूद उन्होंने इस सब चुनौतियों से पार पाया और अब सफलतापूर्वक प्राकृतिक खेती का काम कर रहे हैं। 
 
प्रकृतिक खेती से आये अच्छे परिणाम

संसार चंद का कहना है कि मैंने अपने खेतों में मिश्रित खेती से बहुत अच्छा परिणाम देखा। संसार चंद अपने खेतों में खीरा, प्याज, टमाटर, बैंगन, लहसुन, मटर, गेहूं, धान, मक्की, गोभी, मूली, शलगम, धनिया और पालक की प्राकृतिक खेती की है। संसार चंद ने बताया कि रसायनिक खेती से 18,000 लगा कर मात्र कमाई 95,000 रुपये थी। जबकि प्राकृतिक खेती करके 12,000 लगाकर 1,25,000 रुपये का मुनाफा कमा लिया।
 
प्रकृतिक खेती से बीमारियों का खतरा होता है काम

संसार चंद ने धीरे-धीरे से प्राकृतिक खेती का दायरा बढ़ाया। उन्होंने पहले के मुकाबले केमिकल की खरीद बहुत कम कर दी है। उनका कहना है कि रसायनिक खेती में सब्जियों में बहुत अधिक बीमारियां आ रही थी, लेकिन प्राकृतिक खेती में बीमारियां बहुत कम है।

You can share this post!