Surya Samachar
add image
add image

लॉकडाउन पर बोलीं सोनिया गांधी- सरकार को एक विस्तृत रणनीति बनाना चाहिए थी

news-details

कोरोना वायरस के संकट से पूरा विश्व जहां एक तरफ जूझ रहा है वहीं दूसरी तरफ भारत में इस पर राजनीतिक गलियारों में सुगबुहाट तेज कर दी है। लॉकडाउन की वजह से कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुई। इस दौरान कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला है। सोनिया गांधी ने कहा कि 21 दिन का लॉकडाउन जरूरी था, लेकिन इसे अनियोजित तरीके से लागू किया गया। लॉकडाउन के कारण लाखों प्रवासी मजदूरों का उत्पीड़न हुआ। सोनिया गाँधी ने इस महामारी ने कहा कि सरकार को इससे निपटने के लिए लगातार चिकित्सा जांच की जरूरत है और चिकित्साकर्मियों को पूरा सहयोग दिया जाए तथा उन्हें सभी निजी सुरक्षा उपकरण मुहैया कराए जाएं। 
 
वहीं उन्होंने कहा लॉकडाउन के कारण लाखों प्रवासी मजदूरों का उत्पीड़न हुआ है। फसल कटाई के लिए किसानों पर लगा प्रतिबंध हटाना चाहिए। सोनिया ने कहा, केंद्र सरकार से मध्यम वर्ग के लिए एक सामान्य न्यूनतम राहत कार्यक्रम तैयार करने और प्रकाशित करने की अपील की। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकारों, फ्रंटल संगठनों, हमारे नेताओं और कार्यकर्ताओं को आगे बढ़ना चाहिए और उन परिवारों को अपनी मदद की पेशकश करनी चाहिए जो अत्यधिक जोखिम में हैं। 
 
कांग्रेस अध्यक्ष ने लॉकडाउन के मुद्दे पर कहा, 'कोरोना वायरस लॉकडाउन के कारण बने हालात से निपटने के लिए सरकार को एक विस्तृत रणनीति बनाना चाहिए थी।' इस बैठक में पूर्व पीएम मनमोहन सिंह भी मौजूद थे। उन्होंने कहा, 'कोविड-19 की चुनौती से मुकाबला करने के लिए कांग्रेस पार्टी राष्ट्र के साथ खड़ी है।' इस बैठक में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि कोरोना मुख्य रूप से उम्रदराज, फेफड़ों की बीमारी, मधुमेह और हृदय रोग वाले लोगों पर हमला कर रहा है। सभी राज्य सरकारों को इन श्रेणियों के लोगों के लिए विशेष परामर्श जारी करने के साथ उनकी देखभाल करनी चाहिए। 

  • Tags
  • #

You can share this post!

Loading...