add image
add image

भारत को मिला पहला राफेल विमान लेकिन भारत आने में लगेंगे 8 महीने

news-details

काफी समय के इंतज़ार के बाद आखिरकार भारत के पास पहला फ्रांसीसी लड़ाकू विमान राफेल विमान आ ही गया.रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को शस्त्र पूजा करने के साथ ही दसॉल्ट कंपनी से पहले राफेल विमान को रिसीव किया, इसी के साथ भारत आसमान में और भी अधिक शक्तिशाली हो गया है. हालांकि अभी भी राफेल को भारतीय वायुसेना में शामिल होने के लिए वक़्त है, क्योंकि अभी भारतीय वायुसेना के जवानों को ट्रेनिंग शुरू होगी.

कब शामिल होगा राफेल?

भारत ने अभी तक 36 राफेल लड़ाकू विमान खरीदें हैं, मंगलवार को पहला विमान राजनाथ ने रिसीव किया. हालाँकि यह सिर्फ अधिकारिक हैंडओवर है लेकिन अभी भी यह विमान फ्रांस में ही रहेंगे जहाँ वायुसेना के जवान इसकी ट्रेनिंग लेंगे.

36विमानों में से 4विमानों की पहली किस्त मई 2020तक भारत को मिलेगी और ये विमान हिंदुस्तान की धरती पर पहुंचेंगे. लेकिन इसके बाद इस्तेमाल में लाने में भी इसे समय लगेगा और फरवरी 2021तक जाकर ये विमान पूरी तरह से ऑपरेशनल होंगे.

 

गौरतलब है कि भारतीय वायुसेना को जो 36विमान मिलने हैं, उनके भारत पहुंचने की डेडलाइन सितंबर, 2022है. यानी अगले तीन साल में सभी 36राफेल लड़ाकू विमान भारत पहुंच सकते हैं जो कि वायुसेना को दमदार बनाने के लिए काफी हैं. भारत-फ्रांस के बीच हुई इस डील की कीमत करीब 59हजार करोड़ रुपये की थी.

आपको बता दें कि

राफेल विमाम 4.5 जेनरेशन का लड़ाकू विमान है जो भारतीय वायुसेना में एक तरह से जेनरेशन का बदलाव होगा. इस विमान में 24500 Kg. भार ढोने की क्षमता है, साथ ही विमान के जरिए एक साथ 125राउंड गोलियां निकलती हैं जो किसी को भी चीर कर रख सकती हैं.

  • Tags
  • #

You can share this post!

Loading...