add image
add image

'नोटबंदी अर्थव्यवस्था पर मार'- प्रियंका गांधी

news-details

आज ही वह दिन था जिस दिन हमारे देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने एक अहम् फैसला लेकर लोगों को हिला कर रख दिया. यह फैसला था नोटबंदी का.. इस फैसले के बाद नेताओं से लेकर आम आदमी के तिजोरी में बंद काला धन बाहर आ गया. लेकिन जहाँ एक तरफ सरकार को लोगों के पास मौजूद काले धन का काला चिट्ठा पता चला वही दूसरी ओर आज तक सरकार काले धन से आई आर्थिक सुस्ती की मार झेल रही है.

आर्थिक सुस्ती के साथ साथ विपक्ष भी इस फैसले पर अलग थलग रह कर इसका विरोध करने में पीछे नहीं हटी.किसी ने इसको आपदा बताई तो किसी ने इसे सोच समझकर किया हुआ क्रूर षड्यंत्र करार दिया था.

आज तीन साल बाद भी नोटबंदी को लेकर विपक्ष के मुहं पर ताला नहीं पड़ा है. नोटबंदी की तीसरी सालगिरह पर विपक्षियों इसपर कई सवाल खड़े किये हैं. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी वाड्रा ने मोदी सरकार पर हमला करते हुआ नोटबंदी को आपदा करार दिया है.

प्रियंका गांधी वाड्रा ने अपने ट्विटर पर ट्वीट करते हुए कहा है कि “नोटबंदी को तीन साल हो गए. सरकार और इसके नीम-हक़ीमों द्वारा किए गए, ‘नोटबंदी सारी बीमारियों का शर्तिया इलाज’ के सारे दावे एक-एक करके धराशायी हो गए. नोटबंदी एक आपदा साबित हुई जिसने हमारी अर्थव्यवस्था बर्बाद कर दी. इस ‘तुग़लकी’ कदम की जिम्मेदारी अब कौन लेगा?”

  • Tags
  • #

You can share this post!

Loading...