add image
add image

चंद्रयान -2 पर बोली मायावती - वह तिफ्ल (बच्चा) क्या गिरे जो घुटनों के बल चले

news-details

चंद्रयान -2 का लैंडर चाँद पर उतरने ही वाला था कि अचानक चंद्रयान -2 का संपर्क इसरो से टूट गया. जिस समय चंद्रयान -2 का इसरो से संपर्क टूटा उस वक्त लैंडर चाँद से करीब 2.1 किलोमीटर की ऊंचाई पर था. इसके बाद से पूरे भारत के लोग और हमारे प्रधानमंत्री इसरो के साइंटिस्टो का हौसला बड़ा रहे है. इसरो के साइंटिस्टों का हौसला बढ़ाने के लिए बॉलीवुड इंडस्ट्री से लेकर राजीनीतिक पार्टियों ने ट्वीट किये.

बीएसपी चीफ और उत्तर प्रदेश की पूर्व सीएम मायावती ने भी ट्वीट किया उन्होंने लिखा कि चाँद पर कदम रखने के लिए चंद्रयान-2मिशन ने समस्त भारतीय जनसमाज को रोमांचित किया. इस संबंध में भारतीय वैज्ञानिको ख़ासकर "इसरो" के वैज्ञानिको ने अब तक जो भी सफलता प्राप्त की है. वह गर्व करने के लायक है और उनकी सरहाना करनी चाहिए.

इसके साथ ही उन्होंने अपने अगले ट्वीट में लिखा कि आगे बढ़ने के लिए ज़रूरी है. कि निराशा, हताशा, व दुःखी कतई  ना हो और यह भी याद रहे कि "गिरते हैं शहसवार मैदान-ए-जंग में, वह तिफ्ल (बच्चा) क्या गिरे जो घुटनों के बल चले" आगे उन्होंने बोला कि वैज्ञानिको को देशहित में काम करते रहने के लिए उनका हौसला बढ़ाते रहने की ज़रूरत है.

  • Tags
  • #

You can share this post!

Loading...