add image
add image

फिल्म उद्योग में सब कुछ ‘शुक्रवार’ के साथ बदलता है: तमन्ना भाटिया

news-details

अभिनेत्री तमन्ना भाटिया महज 15साल की उम्र में फिल्मी पर्दे पर आई थीं और हिंदी सिनेमा में आने से पहले वह दक्षिण भारतीय फिल्मों की एक बड़ी स्टार बन चुकी थीं।

तमन्ना का जन्म मुंबई में हुआ और यहीं उनका लालन-पालन भी । उन्होंने 2005में तेलुगू फिल्म ‘श्री’ के साथ फिल्मी दुनिया में प्रवेश किया और दो साल बाद ही वह इस उद्योग की सफलतम अभिनेत्री बन गईं।

अभिनेत्री ने पीटीआई-भाषा को बताया, ‘‘ मैं दरअसल तेजी से बड़ी हुई। मैं उस समय काफी परिपक्व थी और मेरे अंदर अभिनेत्री बनने की मजबूत इच्छा थी।’’

उन्होंने बताया, ‘‘ मैं एक कलाकार बनने के लिए निकली थी और बन गई हिरोइन। मुझे यह महसूस हुआ कि स्टारडम आप से परे है। यह कोई ऐसी चीज नहीं, जिसे नियंत्रित किया जा सकता है। मैं भाग्यशाली हूं कि मेरे पास दक्षिण के वफादार प्रशंसक हैं।’’ 

तमन्ना ने किशोरावस्था में ही तमिल और तेलुगू भाषा सीख ली थी। और दक्षिण भारतीय फिल्मों के अलावा उन्होंने बॉलीवुड में भी काम किया। लेकिन बॉलीवुड का उनका सफर अभी तक कुछ खास नहीं रहा है।

इस पर उन्होंने कहा, ‘‘ यह मुझे वास्तविकता से जोड़कर रखता है कि हमारी जिंदगी शुक्रवार से शुक्रवार वाली है और इस दिन के साथ ही बहुत कुछ बदल सकता है। कुछ शुक्रवार अच्छे होते हैं और कुछ नहीं। लेकिन पूरा मकसद आगे बढ़ने का होता है।’’

तमन्ना ‘बाहुबली’ जैसी ब्लॉकबस्टर फिल्म में भी काम कर चुकी हैं। और 29साल की उम्र में वह ‘हिम्मतवाला’ ‘एंटरटेनमेंट’ और ‘हमशक्ल’ जैसी फिल्मों के साथ बॉलीवुड में आई थीं और तीनों ही फिल्में बॉक्सऑफिस पर चल नहीं पाई।

उनकी अगली हिंदी थ्रिलर फिल्म ‘खामोशी’ दर्शकों के बीच इस शुक्रवार को रिलीज हो रही है।

                 भाषा

  • Tags
  • #

You can share this post!

Loading...