add image
add image

PNB बैंक के बाद अब इस बैंक में फंस सकते है आपके पैसे

news-details

आवास वित्त पर ध्यान देने वाली गैर-बैंकिंग वित्त कंपनी DHFL (दीवान हाउसिंग फाइनेंस कारपोरेशन ) कथित रूप से 960 करोड़ रुपये के ब्याज भुगतान भरने में नाकामयाब रही है। डीएचएफएल को पिछले दो महीनों में अपने ऋण पर लगातार रेटिंग एजेंसियों द्वारा डाउनग्रेड का सामना करना पड़ा है।
 
जिसके बाद DHFL पर आरोप है की उसने कई जाली कंपनियों के जरिये 31 हजार करोड़ रुपये के बैंक लोन की हेरा-फेरी की है। जिसकी वजह से कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय ने कंपनियों के रजिस्ट्रार के जरिये DHFL के प्रमोटरों के खिलाफ फाइनेंसियल अनियमिता के आरोपों की विस्तार से जांच की है। सूत्रों के अनुसार, इस जांच में कंपनी में पैसों के संदिग्ध हेर-फेर के संकेत मिले हैं। इसके बाद मंत्रालय ने  SFIO को इस मामले की जांच करने को कहा है। कंपनी पर इस तरह के आरोपों के चलते ये मुमकिन है की इसमें जिनकी एफडी है उनमें से करीब एक लाख लोगों की एफडी फंस सकती है। 
 
फिलहाल  DHFL पर कुल 83,873 करोड़ रुपये की देनदारी बकाया है जिसमें नॉन-कन्वर्टिबल डिबेंचर का कंपनी पर 41,431 करोड़ रुपये बकाया है। इसके अलावा बैंकों का 27,527 करोड़ रुपये का बकाया है। वहीं कमर्शियल पेपर 100 करोड़ रुपये के हैं। नेशनल कमर्शियल बैंक यानी एनसीबी का भी DHFL पर 2350 करोड़ रुपये का बकाया है। वहीं कुछ एक्सटरनल कमर्शियल बॉरोइंग भी हैं वहीं कुछ अन्य बकाया भी हैं। 
 
हलाकि ऐसा कहा जा रहा है कि कम्पनी के लिए बैंको और बकायदारों ने एक बचाव स्कीम की सलाह दी है जिसके अनुसार  जिन लोगो का 10 साल का फंड है उन्हें उनका मूल पैसा वापिस दिया जायेगा। वही इसमें भी उन लोगो को प्रायोरिटी दी जाएगी जो रिटायर हो चुके है या रिटायर होने वाले है।  

  • Tags
  • #

You can share this post!

Loading...