add image
add image

अयोध्या भूमि विवाद का 21वां दिन आज,चीफ जस्टिस अध्यक्षता वाली संविधान पीठ करेगी सुनवाई

news-details

अयोध्या भूमि विवाद का आज 21वां दिन सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होगी। सुनवाई चीफ जस्टिस की अध्यक्षता वाली सविंधान पीठ करेगी। पीठ के सामने दोनों पक्ष अपनी अपनी दलील रख रहे है। इस से पहले सुनवाई के 20वें दिन मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने दो शब्दों पजेशन और बिलॉन्गिंग पर बहस की थी। जिसमे राजीव धवन ने ये बताया की पजेशन टर्म ऑफ़ लॉ है और बिलॉन्गिंग टर्म ऑफ़ आर्ट। पजेशन एक कानूनी शब्द है। 
 
उनके इस तर्क पे जस्टिस बोबोडे ने सवाल करते हुए ये पूछा की ये दोनों शब्द अलग अलग कैसे है? इस पर जस्टिस नजीर ने भी कहा कि बिलॉन्गिंग शब्द तो निर्मोही अखाड़े की याचिका में भी है, जिसके जरिए उन्होंने इस जमीन पर अपना दावा किया है। अब आपके मुताबिक इसका अलग अर्थ तो किसी भी कानून में नहीं है। आप इस अलग अर्थ पर क्यों बहस कर रहे हैं?
 
तो वहीं बीजेपी के पूर्व नेता और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के विचारक के.एन. गोविंदाचार्य ने इस संबंध में याचिका दाखिल की है की कोर्ट में हो रहे सुनवाई की लाइव स्ट्रीमिंग हो। याचिका के अनुसार, यदि इनमें से कुछ भी नहीं किया जा सकता है, तो कम से कम कार्यवाही की प्रतिलिपि (ट्रांसस्क्रिप्ट) तैयार कराई जाए, जिसे बाद में ऑनलाइन जारी किया जा सके। 
 बता दें कि जस्टिस आर.एफ. नरीमन और जस्टिस सूर्यकांत की पीठ ने चीफ जस्टिस गोगोई की अगुवाई वाली पीठ को यह मामला सौंप दिया है। अयोध्या भूमि विवाद मामले की वर्तमान में चीफ जस्टिस की अध्यक्षता वाली पांच जजों की संविधान पीठ द्वारा सुनवाई की जा रही है। 

  • Tags
  • #

You can share this post!

Loading...