add image
add image

#WorldPopulationDay: क्यों मनाया जाता है विश्व जनसंख्या दिवस? जानें

news-details

आज विश्व जनसंख्या दिवस यानी की वर्ल्ड पापुलेशन डे है. विश्व में दिन प्रतिदिन बढ़ती आबादी को देखकर '11 जुलाई 1989' से जनसंख्या को नियंत्रित करने के उद्देश्य से 'विश्व जनसंख्या दिवस' मनाने की शुरुआत हुई.विश्व जनसंख्या दिवस के दिन विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन होता है जिनमें जनसंख्या वृद्धि की वजह से होने वाले खतरे के प्रति लोगों को आगाह किया जाता है.

तेजी से जनसंख्या की वृद्धि कई वजहों से समाज और स्वास्थ्य के लिए खतरनाक है.

जिला प्रशासन की रिपोर्ट के अनुसार 2011 में पटना जिले की जनसंख्या 58 लाख 38 हजार 465 थी जो पहली जनवरी 2019 में बढकर 76 लाख 74 हजार 310 हो गई है. यानि आठ वर्षों में पटना की जनसंख्या 18 लाख 35 हजार 845 बढी है.  2011 में पुरुषों की संख्या 30 लाख 78 हजार 512 थी जो 2019 में बढ़कर 39 लाख दो हजार 704 हो गई है. इसी प्रकार महिलाओं की संख्या 2011 में 27 लाख 59 हजार 953 थी, जो बढ़कर 37 लाख 71 हजार 606 हो गई है.

इन आठ वर्षों में पुरुषों की संख्या जहाँ आठ लाख 24 हजार 192 हुई, वहीं महिलाओं की जनसंख्या एक लाख 11 हजार 653 बढी है. ग्रामीण क्षेत्र में मसौढ़ी में सबसे अधिक छह लाख 14 हजार 727 जनसंख्या बढ़ी है. वहीं शहरी क्षेत्र में पटना साहिब क्षेत्र में छह लाख 10 हजार 195 जनसंख्या बढ़ी है.

जनसंख्या बढ़ने की कई वजहों में गरीबी और अशिक्षा भी है, अशिक्षा की वजह से लोग परिवार नियोजन के महत्व को नहीं समझते और मातृत्व स्वास्थ्य एवं लैंगिक समानता के महत्व को कमतर आंकते हैं. जनसंख्या बढ़ने से बेरोजगारी की समस्या भी बढ़ती है,

  • Tags
  • #

You can share this post!

Loading...