नया भारत , नया सवेरा

  • :
Surya Samachar

Breaking News

जाबाज कहानी: नक्सलियों का खात्मा करने के फौलादी इरादों वाली 'कोबरा फोर्स' की पहली महिला अफसर 'ऊषा किरण'


08-11-2018 18:03:02 PM
modi
suryasamachar.com [Edited by: surya samachar]

हाल ही में 'वोग वूमन ऑफ द अवॉर्ड-2018' अवार्ड पा चुकी छत्तीसगढ़ राज्य में CRPF की 80वीं बटालियन में असिस्टेंट कमांडेंट के पद पर तैनात ऊषा 27 साल की है. ऊषा उस वक्त पॉपुलर हुई जब इस Vogue फैशन शो में उन्हें सम्मानित किया गया था जहाँ सभी सेलेब्स ने रेड कारपेट पर खूबसूरत ड्रेस में रैंप वॉक किया पर ऊषा ने अपनी वर्दी में के साथ रैंप वॉक करती नजर आई थी. आइये जानते है ऊषा जैसी जाबाज अफसर के बारे में:

ऊषा किरण गुरुग्राम की रहने वाली है. और साल 2013 में CRPF का एग्जाम क्लियर कर देश में 295वीं रैंक हासिल की थी. इसके अलावा ऊषा ट्रिपल जंप में गोल्ड मेडल भी जीत चुकी है. लगभग 2 साल पहले ऊषा ने खुद ही नक्सली इलाके में पोस्टिंग ली थी. आपको बता दें ऊषा की ही अगुवाई में जवानों का हर ऑपरेशन पूरा होता है. और उनकी बहादुरी और फौलादी इरादों से नक्सली भी खौफ खाते है.

आपको जानकर हैरानी होगी कि ऊषा बस्तर के दरभा डिवीजन स्थित CRPF में है जहाँ इससे पहले नक्सलियों ने 1 कांग्रेसी समेत 34 लोगों को मौत के घाट उतार दिया था. यहां ऊषा के आने के बाद आदिवासियों और खास कर की महिलाओं को एक सहारा मिला है. इस वक्त ऊषा जब से CRPF के 'कोबरा कमांडो फोर्स' में शामिल हुई है उनका एक ही फोकस है वो है नक्सलियों का पूरा खात्मा. और ऊषा जैसी अफसर से नक्सली भयानक खौफ भी खाते है.

बता दें कोबरा कमांडर जंगलो में रहकर नक्सलियों से निपटते है. ऊषा की बहादुरी तो देखिए जो देश की न सिर्फ पहली महिला CRPF है बल्कि सबसे कम उम्र की पहली महिला जो नक्सलियों के खात्मे के लिए कोबरा कमांडर में शामिल है. ऊषा की बहादुरी और फौलादी इरादों से महिलाओं को सीख लेनी चाहिए. क्योंकि एक नारी सिर्फ घर नहीं बल्कि पूरा देश संभाल सकती है. ऐसे नारी को हमारा सलाम.